primary school sangasar

ta: Dholera, dist: Ahmedabad, C.R.C: Hebatpur

In this blog

January 11, 2015

Bodh katha

एक दिन यमराज एक लड़के के पास आये और बोले -
"लड़के, आज तुम्हारा आखरी दिन है!"
लड़का :  "लेकिन मैं अभी तैयार नही हुँ !".
यमराज : "ठिक है लेकिन सूची मे तुम्हारा नाम पेहला हैं ".
लड़का : "ठिक है , फिर क्युं ना हम जाने से पेह्ले साथ मे बैठ कर चाय पी ले ?
यमराज : "सहि है".
लड़के ने चाय मे नीद की गोली मिला कर यमराज को दे दी.
यमराज ने चाय खत्म करी और गेहरी नींद मे सो गया.
लड़के ने सूची मे से उसका नाम शुरुआत से हटा कर अंत मे लिख दिया.
जब यमराज को होश आया तो वह लड़के से बोले -  "क्युंकी तुमने मेरा बहुत ख्याल रखा इसलिये मे अब सूची अंत से चालू करूँगा" !!!

सिख :
"किस्मत का लिखा कोई नही मिटा सकता"
अर्ताथ - जो तुम्हारी किस्मत मे है वह कोई नही बदल सकता चाहे तुम कितनी भी कोशिस कर लो .
इसलिये भगवत गीता मे श्री कृष्णा ने कहा है -
"तू करता वही है जो तू चाहाता है,
पर होता वही है जो मैं चाहाता हुँ
तू कर वह जो मैं चाहाता हुँ
फिर होगा वही जो तू चाहाता हैं"
         ..^..
        ,(-_-),
  '\'''''.\'='-.
     \/..\\,'
        //"")
        (\  /
          \ |,
         ,,; ',
यह एक अर्थपूर्ण है !
इसलिये इसे पडे और दूसरो को भी इसके बारे मे बताये l
दुसरी चिजे तो बहुत शेयर करी होगी भगवान की इस वाक्या को ज्यादा से ज्यादा आगे बडाये.
धन्यवाद,
"जय श्री कृष्णा"

No comments:

Best Viewed in Internet Explorer 7 or above, Google Chrome,Operamini,Uc browser and FireFox 3.5 or above browsers.